Thursday, 9 May 2013


2 comments:

  1. अपना नाम और एड्रेस भैजना नयी संस्कृति के नामी, पाश्चात्य के प्रेमी।
    मूझे लगता हैं इतिहास का क ख ग घ नहींपढा हैं मेरी सलाह हैं पढ लों बहूत कुछ फायदा होंगा।
    नहीं तो आजकल के ज्ञानी बाबा और आप महाशय में कोई फर्क नहीं।

    रणजीत सिंह रणदेव चारण

    ReplyDelete
  2. अपना नाम और एड्रेस भैजना नयी संस्कृति के नामी, पाश्चात्य के प्रेमी।
    मूझे लगता हैं इतिहास का क ख ग घ नहींपढा हैं मेरी सलाह हैं पढ लों बहूत कुछ फायदा होंगा।
    नहीं तो आजकल के ज्ञानी बाबा और आप महाशय में कोई फर्क नहीं।

    रणजीत सिंह रणदेव चारण

    ReplyDelete