Thursday, 5 September 2013

आप सभी को शिक्षक दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें !!

मेरे वास्तविक जीवन के सारे गुरुओं को मेरी तरफ से प्रणाम !! सोशल मीडिया में भी मुझे बहुत सारे गुरु मिले , वे भी मेरा प्रणाम स्वीकार करें | जो लोग मेरी हिन्दी को सुधारते हैं वे भी मेरा प्रणाम स्वीकार करें | 

विद्यालय , महाविद्यालय , विश्वविद्यालय में मुझे जितने शिक्षक और शिक्षिका मिले आज भी वे सब मुझे याद हैं | उन सबसे कितना मिला क्या मिला यह अवर्णनीय है | मेरे शिक्षक-शिक्षिका ने मुझे जो प्यार दिया वो मैं कभी नहीं भूल सकती | 2004 में 12th के बाद मेरे विद्यालय की पढ़ाई खतम हुई , लेकिन विद्यालय से मेरा लगाव आज भी उतना ही है और वहाँ के शिक्षक-शिक्षिका से भी | आज भी जब कभी भी सामाजिक कार्य के लिए जाती हूँ सभी से उतना ही उत्साह मिलता है | और सबसे ज्यादा खुशी मुझे तब मिलती है जब देखती हूँ कि इतने दिनों के बाद भी सभी ने मेरे नाम से मुझे याद रखा है | उस दिन की मुझे आज भी याद आती है जब सारे Teachers मुझे यह कहते थे कि “अपनी हंसी को बंद कर लिली नहीं तो क्लास रूम से निकाल दूंगा” |

आप सभी को शिक्षक दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें !!

No comments:

Post a Comment