Saturday, 9 March 2013

हर पल जिंदा लाशों की शहर में
बंद होती मेरी आँखों में ...
हर पल फिर से जिंदा होने और
जिंदा रहने के सपने आते है | - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment