Tuesday, 12 February 2013

यह तो नसीब नसीब की बात है ....
जिसको मिलना था प्यार ... 
वो अपने हिस्से का प्यार ले कर चले गए .... । 
और अब उनके हिस्से का कडवाहट कोई और झेले ... ! - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment