Friday, 15 February 2013

बेवफा कोई नहीं , 
सब वक़्त का फेर है । 

वक़्त है तो सब है । 
वक़्त साथ नहीं तो ... 
अशांत मन और 
सब कुछ अस्त-व्यस्त ! - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment