Wednesday, 20 February 2013

जितना ठगना चाहों 
ठगने की कोशिश कर लो ... 

जीवन तो गोल चक्र मात्र है 
घूम फिर कर यहीं आना है ... ! – लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment