Saturday, 1 September 2012


एक प्रश्न .................???

'' यत्र नार्यस्तु पूजन्ते रमन्ते तत्र देवता '' बाले देश भारत में पांच-पांच साल की अबोध और मासूम बच्चियों से बलात्कार पर समाज में कोई हलचल क्यों नहीं होती ... ! सैधांतिक नैतिकता .... उत्कृष्ट धर्मिकता , उच्च मानवीय मूल्यों .और दुनिया के विश्वगुरु कहलाने बाले देश में इन मुद्दों पर शमशान जैसी नीरवता ... मुर्दों जैसी शिथिलता ..... कितनी जायज और मानवीय है .......... कभी सोचा गया है की आखिर ऐसी घटनाएं उन देशो में क्यों नहीं होती जिनकी आलोचना भारतीय समाज सबसे जादा करता है .......!!!


No comments:

Post a Comment