Saturday, 1 September 2012

जीवन से अंधकार हटाना व्यर्थ है , क्योंकि अंधकार हटाया नहीं जा सकता .... । जो यह जानते हैं , वे अंधकार को नहीं हटाते, वरन् प्रकाश को जलाते हैं ..... ।

प्रभु को पाने की आकांक्षा से भरो , तो पाप अपने से छूट जाते हैं ..... । और , जो पापों से ही लड़ते रहते हैं , वे उनमें ही और गहरे धंसते जाते हैं ..... । जीवन को विधायक आरोहण दो , निषेधात्मक पलायन नहीं ..... । सफलता का स्वर्ण सूत्र यही है ..... ।
 

No comments:

Post a Comment