Saturday, 3 May 2014

साम्प्रदायिक दंगे

असम या देश के किसी भी हिस्से में होने वाले साम्प्रदायिक दंगे को ले कर सोशल मीडिया पर कोई भड़काऊ बयानबाजी नहीं होनी चाहिए | हमें हमेशा मीडिया के सकारात्मक प्रयोग को सुनिश्चित करना चाहिए कई बार हमारी असंवेदनशीलता दुसरे जगह की भी बिगड़ सकती है | सांप्रदायिक दंगे को मसाले बना कर राजनीति करना अत्यंत निंदनीय है |

असम एक बार एक साल पहले भयावह दंगो की आग में जल चुका है | यहाँ कोई नहीं चाहता फिर से उसी आग में आम जनता जले क्योंकि हम सबको इसकी एहसास है |


सभी से आशा यही है कि सभी सभी स्थिति की गंभीरता एवं मानवता को को समझेंगे और शांति कायम रखेंगे |

No comments:

Post a Comment