Monday, 28 April 2014

जरीवाल ने जब राजनीति की शुरुवात की थी

अरविन्द केजरीवाल ने जब राजनीति की शुरुवात की थी तब मुझे भी एक नवीन आशा की किरण देश में दिखी सामान्य रूप से मैं भी अपने मन में उम्मीद पाल बैठी लेकिन समय बढ़ता गया और सिधान्तों की जगह तुष्टिकरण और झूठे वादों ने ले ली उसके बाद हर बात में एक झूठ और फरेब और दूसरी पार्टियों के भ्रष्टाचारी नेताओं को अपनी पार्टी में लेकिन की कवायत शुरू हुई और धीमे धीमे मुख्य मुद्दा भ्रष्टाचार से हट कर वही काँग्रेसी राग मोदी और गुजरात दंगे और गुजरात जैसे विकसित राज्य को झूठ का प्रचार बताना आदि आदि कारणों से देश की जनता अरविन्द केजरीवाल से चिढने जैसा लगी है हो सकता है आपको मेरी पोस्ट में कुछ पूर्वाग्रह या जल्दीबाजी जैसा दिखे लेकिन लोकसभा चुनाव का परिणाम आने पर आप अवश्य सहमत हो जायेंगे ..!!

अब देश की जनता अरविन्द केजरीवाल या अन्य झूठे लोगो को नकार चुकी है .!!

पूर्ण विश्वास है अच्छे दिन आने वाले है !!

No comments:

Post a Comment