Thursday, 20 February 2014

नदियाँ भी बहती हैं

नदियाँ भी बहती हैं अपनी अपनी धारा में
जीवन भी बह जाता है किसी कशमकश में ,
किसी का अंत सागर तक तय है तो
कोई अंत की तलाश में भटकता जाता है | - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment