Sunday, 11 August 2013

क्या हुया जो चुपके से कहीं तुम खो गए 
पतझड़ के सावन में भी तो यादें ताजा होती है | 
चाहे मैं तुम्हें यांद ना आऊ कभी ,
लेकिन जीने की कला आज तुमसे सीखी है की .....
Just Move On
Move On Move On With Our Life - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment