Tuesday, 19 March 2013

“ भारत गाँव का देश है और भारत की आत्मा भी गाँवों में ही बसती है ”
हर एक तथाकथित नेता की भाषणबाज़ी ये ही रहती है ___ |

अगर ऐसा ही है तो भारत में हमारे गाँवों को प्राथमिकता क्यू नहीं मिलती ___ ?

माफ कीजिएगा नेता लोग आप लोग ‘भारत’ में नहीं ‘तथाकथित इंडिया’ में रहते है और आप सबको ‘भारत’ पर ‘नाज़’ नहीं बल्कि ‘इंडिया’ पर ‘प्राउड’ है ___ |

No comments:

Post a Comment