Thursday, 7 February 2013

वक़्त का दरिया ... 
ऐसे ही थम जाएगा .... ! 

दिल में दफन नासूर ... 
जब फिर से रंग लाएगा ... ! - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment