Monday, 3 December 2012

न सरहदें बनती ... 
न देश बेगाने बनते .... 
और न इंसान पराया होता ... ! - लिली कर्मकार

No comments:

Post a Comment