Sunday, 16 September 2012

“ देश तरक्की के शिखर पर है ” ........ बयान हर एक नेता का ..... !!!

लेकिन कैसी तरक्की ...... ! और कहाँ की तरक्की ........ ! गरीब मजबूर बन गए ..... और अमीर भोक्ता ..... । चारों ओर भ्रष्टाचार का हाहाकार ........ फिर भी हमारी सरकार महान .
.... । सामाजिक और धार्मिक भ्रष्टाचार देश की बुनियाद हिला रहा है ....। सरकार वोट बैंक के नाम पे धार्मिक दंगे कराती है ....... ! आज तक न तो हमने कभी सुना है और न तो हमने कभी देखा है की देश की संकट कालीन परिस्थिति में किसी भी नेता या किसी भी हाइ प्रोफ़ाइल लोगो को कुछ हुया हो ....... ! जो होता है सिर्फ देश की साधारण जनता के साथ ही होता है .....।

जागो जनता जागो ....... आपस में मत भीड़ों ....... !देश की तरक्की के लिए सोचो ..... !

जय हिन्द , जय भारत ...... !!!

No comments:

Post a Comment