Friday, 14 September 2012

जातिवाद समाज के जहर है ........ !

ना जातिवाद , ना भाषावाद , ना वाद-विवाद ....... ! 

जातिवाद , संप्रदायवाद , लिंग असमानता , रूढ़िवादी परंपरा एवं पर्दा-प्रथा का सामना करते हुए भारत विकास को कौन सी नयी दिशा दे पाएंगी .... ? क्या इसी तरह रामराज्य का सपना पूरा होगा .... ?

No comments:

Post a Comment