Friday, 31 August 2012

हर एक मनुष्य अपने जीवन में जो कुछ भी करता है , शान्ति के लिए करता है । जिस दिन इस जीवन के अंदर शान्ति आ जाएगी, तुम भी पूरे हो जाओगे। अपने जीवन में ज्ञान का पेड़ लगने दो , ताकि ये फूले और फले । 


" जीवन की परिभाषा बस आत्मदर्शन है । " 

" किसी को हमने एहसास कहा , किसी को भाव ,

पर जीवन क्या है बस दुख , सुख का छाव । "

" कभी जश्न है जहान में , कभी मातम का आलम है ,

जीवन को परिभाषित करना क्या किसी गूढ़ रहस्य से कम है । "

No comments:

Post a Comment