Friday, 31 August 2012


हर ‘ एक इंसान ’ का
अपना अपना ‘ सोच ’ ,
‘ अहसास ’ अपना अपना
ओर ‘ अंदाज़ ’ भी अपना …. !
कोई कुछ भी कहे ,
‘ प्रेम ’ तो बस
‘ प्रेम ’ होता है .... !

कोई ‘ भगवान ’ से करता है
तो कोई ‘ देश ’ से ,
कोई ‘ प्रकृति ’ से करता है तो
कोई ‘ देह धारी ’ इंसान से ..... !

लेकिन ‘ प्रेम ’ तो आखिर
‘ प्रेम ’ ही होता है .... !
जिसे हम ‘ अनजाने ’ में
‘ नाम ’ दे देते है 

“ सुख की खोज ” का …. ! - लिलि कर्मकार ...।


No comments:

Post a Comment