Thursday, 6 February 2014

एड्स (AIDS)

मैं कुछदिन बाहर थी, इसलिए फ़ेसबूक मैसेजेज (Messages) का जवाब नहीं दे पा रही थी | इसी दौरान एक 24 साल के लड़के ने कई बार मुझे मैसेज किये | कल जब मैंने उससे मेसेज में बात की तो पता चला उसे एड्स (AIDS) है | उस लड़के ने बस फेसबूक पर मैसेज बस इसलिए किया था मुझे क्योंकि वो मानसिक तनाव में है | एड्स होने के कारण उसे हर कोई गलत समझ रहा है , उसके सगे-सम्बन्धी सभी , यहाँ तक कि उसके माता-पिता भी | मैं बस इतना कहना चाहती हूँ कि एड्स होने से ही कोई चरित्र का खराब नहीं हो जाता , यह महज़ एक बीमारी है किसी को भी हो सकता है | अब तो टीवी (TV) पर भी विज्ञापन के रूप में भी दिखाते है | जब कोई बीमार पड़ता है उसे सबसे ज़्यादा ज़रूरत अपनों की होती है | हो सके तो जो बीमार है उसे अपनापन दीजिये , उसे अपनों की प्यार की ज़रूरत हैं न कि किसी के ताने की | अपनी सोच को बदल कर देखिये , अच्छा लगेगा | जहाँ हमारी सोच गलत हों , वहाँ हमें उस गलत सोच को जरूर सुधारना चाहिए |

No comments:

Post a Comment