Saturday, 1 September 2012

देश की जनता भूख में ....

ओर देश के नेता सुख में .....।


सिर्फ दलाली है अब यह राजनीति ....

कभी किसी लड़की की तो ....

कभी किसी की भावनाओं की ....


बन्दूक तो अब सरकार बन चुकी है ....

ओर आम जनता की इच्छा ....

बन्दूक की गोली का शिकार ..... । - लिलि कर्मकार
 

No comments:

Post a Comment